मंगलवार, 14 फ़रवरी 2017

नूर की बून्द

कैसी होंगी वो आँखे जो मेरा आईना बनेंगी
जिन आँखों के उजालों में मेरे अँधेरे फ़ना होंगे 
समंदर सी अथाह उस नयी दुनिया में प्यार के रंग चलन से कुछ जुदा होंगे 
नूर की गिरती उन बूंदो की तलाश में कब से निकले है हम 

बड़ी उलझन है कब कहाँ मिलेंगी वो,जिनका इंतज़ार कितने जन्मों से है 
इशारे तो बहुत मिलते है मगर 
आँखों से बात करे वो मिलता ही नहीं 
सच तो ये है की आजकल कोई आँखों से बात करता ही नहीं

भीड़ में, तन्हाई में किस्सो में, कहानी में एक अक्स उभरता है अक्सर
कहाँ ढुँढू उसकी उन दो आँखों को 
जिनकी ख़ामोशी हमसे बहुत कुछ कहा करती है 
उन आँखों की महकती खुशबू हर ज़माने में बहा करती है 

रूह को  छूती  वो नूर की बून्द मुझे मिल जाये कही 
इससे पहले के डूब जाये दिल की कश्ती 
खुदा अब जल्द मिल जाये उन  आखों का किनारा कहीँ
नहीं तो इश्क़ का मतलब ही समझा दे ज़माने को सही 

11 टिप्‍पणियां:

  1. मै नहीं अंजान प्रिय,
    तुम मेरी मुस्कान प्रिय !!
    दीप तुम मेरे जीवन का
    मन प्राण तुम्हारे प्रिय !!
    .....भूदत्त पाराशर....

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक चेहरा मेरे अवचेतन मे मुझे पुकारता रहा है | मै नही जानता वो कौन है?, कहा है?.. है भी या नही ?...पर मै निरंतर उसकी तलाश में भटक रहा हूँ... तमाम..निराशाओ के बाद भी.. मै आज भी उसकी तलाश मे हूँ |

    उत्तर देंहटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  4. sach haiइशारे तो बहुत मिलते है मगर
    आँखों से बात करे वो मिलता ही नहीं

    उत्तर देंहटाएं