शुक्रवार, 29 दिसंबर 2017

दम घुट रहा था अब तक

life in hell

घुटन थी दरवाज़े के उस पार 
ना आवाज़ सुनने वाला था कोई 
ना आवाज़ निकलने देता था कोई 
सिर्फ आँखे बोलती नज़र आती थी 
मगर उस भाषा का जानकर ना था कोई 
होठो के बीच फंसे अपने ही शब्दों की 
आवाज़ सुनने का मन करता है 
आज खुलकर सांस लेने का मन करता है 
ज़िन्दगी नाम की थी जिस शख़्स के 
उसके हर सितम का जवाब दे सकती हूँ मैं 
आज लगता है हवा का रुख बदल रहा है 
छोटे ही सही इस ठन्डे झोंके को 
सलाम करने का मन करता है 

4 टिप्‍पणियां:

  1. Beautifully you have written about the pain of muslim women

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्कृष्ट व सराहनीय प्रस्तुति.........
    नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाओ सहित नई पोस्ट पर आपका इंतजार .....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आपको भी नया साल मुबारक और बेहद शुक्रिया आपका ...अपनी राय कमेंट के ज़रिय पहुंचने के लिए
      आशा है आपको नई रचना पसंद आएगी आपके कमैंट्स का हमेशा इंतज़ार रहेगा

      हटाएं
  3. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं