बुधवार, 8 मार्च 2017

शक्ति

shakti se anjan,mother earthPic Courtesy:The Goddess Guide to life









ना शब्द बांध सकते है मेरे अहसास की ताकत
ना साँझ रोक सकी मेरी मंज़िलो की सड़क
ना मुश्किलें जान सकी मेरे इरादों की ताकत
ना सुबह ले सकी मेरी ताज़गी की महक
ना वस्त्र ढक सके मेरी खूबसूरती की झलक
ना अम्बर समझ सका मेरी ऊंचाई का महत्व
ना सागर की गहराई समझ पाई मेरे मन की गहराई
ना मेरी राख ही समझा पाई मेरे अपनों को मेरा अस्तित्व
एक धरती का सहारा है जिसने औरत के अस्तित्व को खुद से संवारा है
सहती है बहती है न कहती है बस अपने हर गुण से मेरी कहानी कहती है

5 टिप्‍पणियां:

  1. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  2. स्त्री शक्ति को समर्पित उम्दा लेखन

    आपकी रचनए जितना पढ़ो कम है ...हर बार नए रास्ते खुल जाते है

    उत्तर देंहटाएं
  3. Surat shanti haI. ..sure aap ki kavita sarvottam..
    Hats of to you..aaj take it needs khub surat shabd nahis padded Maine-et-Loire national ki upmarket mein

    उत्तर देंहटाएं