मंगलवार, 25 अक्तूबर 2016

ख़ुशी के मायने बदल गए है

happiness,meaing changed,lifestyle,busy,schedule,oldagehome,parents,kids,mother,father,neighbour
ख़ुशी का अर्थ बदल गया लगता है
पहले लोग अपनों की आखो में ख़ुशी ढूंढा करते थे
अब आईने के सामने बुत बनकर खड़े रहते है

ख़ुशी बाँटने वाले भी घर में सीमित हो गए है क्योकि
बुजुर्गो को ओल्ड ऐज होम में छोड़ना फैशन बन गया है
मन ज्यादा मचले तो पुरानी एल्बम का फोटो फेसबुक पर अपलोड होगा 

छुट्टी लेकर परिवार के साथ शॉपिंग का तो ज़माना लद गया है
ऑनलाइन शॉपिंग ने ख़ुशी की buy one get one free के नीचे कब्र जो बना दी है
पाप का हाथ पकड़कर जिद करना भी ख़ुशी का दूसरा नाम है शायद

त्यौहार पर बहाने से पडोसी के घर बेवजह पहुँच जाते थे
अब टीवी पर दिनों दिन बढ़ते चैनल वक्त नहीं देते शायद
ख़ुशी अब मोहल्ले से रूठकर सॅटॅलाइट से ट्रांसफर होती है

13 टिप्‍पणियां:

  1. ख़ुशी के अर्थ का आज के परिपेक्ष में वर्णन बिलकुल सटीक है ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. badlte daur mein khushi kho gayi kaha...dhundhata hun paresha hone ka sabab

    उत्तर देंहटाएं
  3. आस पास से ठहाके तो हर रोज़ सुनता हूँ पर चेहरे पर उसका नूर नहीं दिखता है ..सच है ख़ुशी काफूर हो गई है ...बिजी है दुनिया दुसरो में खुद से अलग जहाँ खोजने में

    उत्तर देंहटाएं
  4. ख़ुशी कहा रहती है एक बार सोचो तो दोस्तों

    उत्तर देंहटाएं
  5. sachi khusi ab kaha...jhoot ka aavaran odhe rahta hai zamana

    उत्तर देंहटाएं
  6. khushi ka arth badal gaya hai...ek ek line mein sach kaha aapne

    उत्तर देंहटाएं