सोमवार, 17 अक्तूबर 2016

"मैं"

"मैं" का जगत बहुत ही छोटा
अक्षर ज्ञान जितना भी हो
इंसान असफल ही होता है
"मैं" की शक्ति कितनी भी हो
"मैं"  की भक्ति कितनी भी हो
इंसान अकेला होता है
"मैं"  ने मारा रावण को
पर मैंने नही मारा मन के "मैं"  को
अब पल पल मैं ही मरता हूं
भीड़ भरे मेले मे मैं बस खुद से बातें करता हूं

14 टिप्‍पणियां:

  1. aaj har aadmi main mein busy hai kisi aur ki yaha kisi ko fikra nahi hai...aur aakhir mein vo akela hi rah jata hai..sangi sathi sub paise aur acche dino ke sathi hai

    उत्तर देंहटाएं
  2. mujhe akela nahi rahna hai...hum hi thik hai jeevan mein thank you for the lesson Manjulaji...Aapki writing prernasrot hai...Likhte rahiye margdarshan karte rahiye

    उत्तर देंहटाएं
  3. aapki har rachna jeevan mein kuch shiksha deti hai aur ye racha sabse behtreen teaching deti hai thank you

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़ते कम्पटीशन के दौर में दुनिया भूलती जा रही है जीवन मैं में नहीं हम में है

    उत्तर देंहटाएं
  5. बढ़ते कम्पटीशन के दौर में दुनिया भूलती जा रही है जीवन मैं में नहीं हम में है

    उत्तर देंहटाएं
  6. घमंड के साथ जीने वाले का सिर नीचा

    उत्तर देंहटाएं
  7. बड़े बड़ो को मैं ने मार डाला पर फिर भी घमंड है की मरता नहीं ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. Ahankar ka ant bura hota hai..jaise Ravan ka hua...pura vansh khatm ho gaya ..

    उत्तर देंहटाएं