बुधवार, 25 मार्च 2009

मेरा चुनाव

मेरे वजूद की तलाश की शुरुआत का पहला पड़ाव यानि पहला पन्ना है मेरा चुनाव ..हर तरफ़ लहर है.. गर्मजोशी है.. और बात.. कि कौन सभालेगा देश की बागडोर किस पर विश्वास किया जाए.. कौन हकदार है ..कौन योग्य है जिसे अपना मत दिया जाए
एक एक मत चुनाव करता है सही उमीदवार ..तों क्यो व्यर्थ इसे बर्बाद किया जाए ..ज़रूरत है सही दृष्टी की ..ज्ञान की.. आईये मतदान से पूर्व हम पूरी तरह आश्वस्त हो जाए की जिसे हम चुन रहे है वह उस योग्य है या नही..वह समाज और देश के हित मैं है या नही॥
इसलिए
सुनिए सबकी और चुनिए मन की

3 टिप्‍पणियां:

  1. sahi mai bahut sahi baat hai. Aaj har matdata ko jarurat hai jagruk honai ki. Sahi sarkar nahi chuni to sahi bhavishya ki kalpana bhi galat hogi.

    उत्तर देंहटाएं
  2. sawaal to sahi uthaya hai lekin hum apne ko itna samajhdar mante hai ki samajhdari ke pher me phans phir se apni galtiyon ko dohrate hai , aur de dete hai apne desh ki ijjat bhi uske hath mein jo pagdi bhi 10 janpath se ijjajat aane ke baad badalta hai

    उत्तर देंहटाएं
  3. Bilkul sahi Sawal hai...laykin jaisay ki aap nay kha ki ya ek padao hai na ki end...hum sabhi koshis to kartay hai us padao ko aaramdayak aur sukhad bananay ki,jissay hum apnay kuch pal sukhn kay sath gujar sakin...aur jab humay padao ko chunanay ka samay aata hai to humaray gharm joshi may wo gharmahat nahi rah jati hai..agar hum apnay samaj ko ek naya aayam dena chatay hai to hum sab ko jagruk rahna padayga aur apnay mat ka sahi prayog kar kay desh ko ek majboot bagdoor dena hoga.

    उत्तर देंहटाएं